ये है 'एशिया की सबसे बड़ी तोप', एक बार चली तो गोले से बन गया तालाब, नाम से ही कांपते हैं दुश्मन

ये है 'एशिया की सबसे बड़ी तोप', एक बार चली तो गोले से बन गया तालाब, नाम से ही कांपते हैं दुश्मन

..
  • 2018-03-14
  • Shalu sneha

..

The Hook Desk: ऐतिहासिक चीजें देखना हर किसी को अच्छा लगता है। भारत में ऐसी कई जगह हैं जहां इतिहास से जुड़ी कई चीजें देखने को मिलती हैं। ऐसे ही राजस्थान के जयपुर में एक ऐसी तोप है तो अपने में ही अद्भूत है।
बता दें कि जयपुर में जयगढ़ किले में एक ऐसी तोप है जिसके बारे में सुनते ही दुश्मन कांप जाते थे। इस तोप को बनाने के लिए 1720 में जयगढ़ किले में ही एक विशेष कारखाना बनवाया गया था। परीक्षण में जब इस तोप से गोला दागा गया, तो वह शहर से 35 किलोमीटर दूर जाकर गिरा। जहां वह गोला गिरा वहां एक तालाब बन गया।
अब तक उसमें पानी भरा है और लोगों के काम आ रहा है। इस किले के नाम के आधार पर ही इस तोप का नाम रखा गया है। बता दें कि इस तोप का नाम है 'जयबाण तोप'। आमेर महल के पास स्थित जयगढ़ के किले में यह तोप स्थित है।
इसे 'एशिया की सबसे बड़ी तोप' के नाम से भी जाना जाता है। कहा जाता है कि सवाई जयसिंह द्वितीय ने अपनी रियासत की सुरक्षा और उसके विस्तार के लिए कई कदम उठाए। जयगढ़ का किला और वहां स्थापित जयबाण तोप उनकी इस रणनीति का ही हिस्सा थी। अरावली की पहाड़ी पर स्थित जयगढ़ किले के डूंगरी दरवाजे पर स्थित जयबाण तोप के बारे में कहा जाता है कि यह एशिया की सबसे बड़ी और वजनदार तोप है।
इस तोप की नली से लेकर अंतिम छोर की लंबाई 31 फीट 3 इंच है। तोप की नली का व्यास करीब 11 इंच है। आप यकीन नहीं करेंगे इस तोप के सामने एक आदमी भी चींटी की तरह नजर आता है। साइज में यह तोप बेहद विशाल दिखती है। इस तोप का वजन 50 टन से भी अधिक होने का अनुमान है।
सबसे ज्यादा हैरान करने वाली बात ये है कि जयबाण तोप का इस्तेमाल आज तक किसी युद्ध में नहीं किया गया और न ही इसे कभी यहां से हिलाया गया। 30-35 किलोमीटर तक मार करने वाली इस तोप को एक बार फायर करने के लिए 100 किलो गन पाउडर की जरूरत होती थी। अधिक वजन के कारण इसे किले से बाहर नहीं ले जाया गया और न ही कभी युद्ध में इसका इस्तेमाल किया गया।

Leave A comment

ट्विटर