300 से भी ज्यादा फिल्मों में काम किया था इस कॉमेडी किंग ने, कभी अंडे और टॉफी बेचकर चलाता था घर

300 से भी ज्यादा फिल्मों में काम किया था इस कॉमेडी किंग ने, कभी अंडे और टॉफी बेचकर चलाता था घर

.
  • 2018-02-07
  • Tara Chand

.

THEHOOK DESK: 70 के दशक में बॉलीवुड में अपनी कॉमेडी से धाक जमाने वाले महमूद अली अब हमारे बीच भले ही ना हो। लेकिन उनके किरदारों ने उन्हें हमेशा के लिए अमर कर दिया।
उन्होंने अपने फिल्मी करियर में 300 से भी ज्यादा फिल्मों में काम किया। उनके पिता मुमताज अली 40 और 50 के दशक के मुंबई के मशहूर स्टेज एक्टर और डांसर थे। उनकी मां का नाम लतीफुन्निसा था उनकी कुल आठ औलादें थीं, महमूद दूसरे नबंर पर थे बाकी छह छोटे भाई-बहन थे। 
फिल्मों में काम शुरू करने के पहले महमदू ने अंडे बेचने और टैक्सी चलाने जैसे काम भी किए थे। महमूद डायरेक्टर पीएल संतोषी के ड्राइवर थे। दशकों बाद उनके बेटे राजकुमार संतोषी की फिल्म अंदाज अपना-अपना में महमूद ने काम किया। महमूद को महान एक्ट्रेस मीना कुमारी को टेबल टेनिस सिखाने की नौकरी मिली थी। बाद में महमूद ने मीना की बहन मधु से शादी की। महमूद ने शादी और पिता बनने के बाद एक्टिंग की तरफ गंभीरता से ध्यान देना शुरू किया. फिल्म 'सीआईडी' में उन्हें अपना पहला रोल मिला किलर का।
'दो बीघा जमीन' और 'प्यासा' में भी महमूद के बेहद मामूली रोल में थे जहां उन्होंने किसी ने नोटिस नहीं किया। महमूद की किस्मत का पिटारा उनकी अपने ही डायरेक्शन में बनी फिल्म 'भूत बंगला' से खुला। लोग उन्हें जॉनी वॉकर के बाद कॉमेडी का वारिस कहने लगे। इसके बाद आई 'पड़ोसन', 'लव इन टोक्यो', 'आंखें' और 'बॉम्बे टु गोवा' जैसी फिल्मों में महमूद की गाड़ी दौड़ा दी। 
70's के आखिर में महमूद का करियर ढलान पर आ गया। जब इंडस्ट्री में जगदीप से लेकर असरानी तक कई कॉमेडी एक्टर आ गए। महमूद ने अपने जीवन में बहुत उतार-चढ़ाव देखे हैं पिता मुमताज अली को जब कामयाबी मिलने लगी तो उनपर शराब का नशा भी चढ़ा। जिससे उनका पूरा परिवार तबाह हो गया। मजबूरन महमूद और उनकी बहन मीनू को बचपन में ही काम शुरू करना पड़ा। 
महमूद के कुल छह बेटे और एक बेटी थी पहली बीवी मधु से चार बेटे और दूसरी बीवी ट्रेसी अली से दो बेटे और एक बेटी। महमूद के बच्चों ने भी सिनेमा में किस्मत आजमाई, लेकिन किसी को खास सफलता नहीं मिली। महमूद की आखिरी फिल्म 1996 में आई 'दुश्मन दुनिया का' थी। 
आखिरी बरसों में महमूद को दिल की बीमारी हो गई थी। इसी के इलाज के लिए वह अमेरिका गए थे, जहां 23 जुलाई 2004 को सोते-सोते ही उनकी मौत हो गई।

Leave A comment

ट्विटर