दुनिया की सबसे बड़ी और ताकतवर आर्मी है ये, आखिर क्या खाती है इस आर्मी की सेना?

दुनिया की सबसे बड़ी और ताकतवर आर्मी है ये, आखिर क्या खाती है इस आर्मी की सेना?

.
  • 2018-01-13
  • Tara Chand

.

THEHOOK DESK: किसी भी देश की सेना की ताकत का पता इस बात से चलता है कि वो अत्याधुनिक हथियारों से कितनी लैस है। कितना अत्याधुनिक साजोसामान उस सेना के पास है। सेना नई टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल किस हद तक कर रही है।

लेकिन इसके साथ ही उसके खान-पान और रहन-सहन भी उतनी ही जरूरी है जितनी की हथियार। लोगों में यह जानने की भी ललक होती है कि आखिर ये सेना वाले खाते क्या हैं। आज हम आपको दुनिया की सबसे बड़ी आर्मी के बारे मे बताने जा रहे हैं कि वो आखिर क्या खाती है।
अमेरिका की आर्मी दुनिया की सबसे बड़ी आर्मी मानी जाती है। कहा जाता है कि यहां आर्मी जॉइन करने आने वाले ओवरवेट लोगों को खास 3-डायट प्लान करवाया जाता है ताकि उनका वजन कम हो सके। इसे मिलिट्री डायट कहा जाता है। हालांकि अमेरिकी आर्मी इस बात से इनकार करती है, उनका कहना है कि इंटरनेट पर प्रचारित होने वाले मिलिट्री डायट या नेवी डायट का उनकी आर्मी से कोई संबंध नहीं है। तो आखिर क्या खाते हैं दुनिया की सबसे बड़ी आर्मी के जवान? आइए जानते हैं -
अफगानिस्तान और दुनिया के अन्य देशों में यूएस मिलिट्री के जवान एक बड़े मेस में आम लोगों के साथ खाना खाते हैं। इन मेस में कई तरह का हेल्दी खाना उपलब्ध होता है। मिलिट्री के लिए खाना उपलब्ध कराने वाले को कई तरह की वैरायटी रखनी होती है।
जवान की बॉडी साइज, उसके काम के प्रकार और वातावरण के अनुसार एक जवान के खाने में 4000 से 7000 तक कैलोरी शामिल किया जाता है।
जिन लोगों के पास बैठकर खाने का वक्त नहीं होता उनके लिए आर्मी हेल्दी ग्रैब एंड गो फूड पैकेट्स भी उपलब्ध कराती है। इसमें आमतौर पर फल, बेजल और योगर्ट उपलब्ध होता है।
डिफेंस मेनु के स्टैंडर्ड के हिसाब से जवानों के लिए हरी सब्जियों की कई वैरायटी उपलब्ध कराई जाती है। यहां न्यूट्रिशन कमिटी, कॉम्बैट फीडिंग डायरेक्टरेट इन सबका निरीक्षण करते हैं। यहां आर्मी के खाने की क्वालिटी को लेकर कई नियम हैं।
जापान के ओकिनावा में ब्रेकफास्ट, लंच और डिनर में डेजर्ट के रूप में संतरे, सेब, तरबूज और पाइनएप्पल उपलब्ध कराए जाते हैं। इसका मकसद हरी सब्जियों और फल को बढ़ावा देना है। जॉर्जया में फील्ड पर तैनात जवानों को हेल्दी खाना उपलब्ध कराने के लिए फास्ट फूड ट्रक चलाने प्रयोग भी शुरू किया गया है।
नियमों के अनुसार फील्ड पर तैनात जवानों को उतना ही हेल्दी फूड उपलब्ध कराना अनिवार्य है जितना बेस पर मिलता है। यहां का रक्षा मंत्रालय इस बात पर जोर देता है कि खाना सेहतमंद होने के साथ-साथ स्वादिष्ट भी हो।
कई बार जवानों को फील्ड पर खुद ही खाना बनाना पड़ता है। इसके लिए उन्हें यूजीआर यानी यूनिटाइज्ड ग्रुप राशन उपलब्ध कराया जाता है। ये पहले से तैयार फूड पैकेट होते हैं जिन्हें सील्ड कंटेनर में रखा जाता है। हर कंटेनर में अलग-अलग वैराइटी के खाने होते हैं और उसमें कम से कम 50 जवान खाना खा सकते हैं।
जवानों को रेडी टू ईट मील के पैकेट्स भी उपलब्ध कराए जाते हैं। इन पैकेट्स में एक पूरे खाने का न्यूट्रिएंट होता है और इसमें बीफ से लेकर टूना फिश और वेज खाना भी उपलब्ध होता है।
 

Leave A comment

ट्विटर