टीवी के पहले 'राम' बनकर कमाई थी शोहरत, 30 साल बाद ऐसे दिखते हैं कि पहचानना मुश्क‍िल है...

टीवी के पहले 'राम' बनकर कमाई थी शोहरत, 30 साल बाद ऐसे दिखते हैं कि पहचानना मुश्क‍िल है...

.
  • 2018-01-12
  • niharika

.

Thehook desk : रामानंद सागर की रामायण के राम तो आपको याद ही होंगे। कोई भला कैसे भूल सकता है एक्‍टर अरुण गोविल के उस किरदार को। आज भी कहीं किसी को अरुण गोविल सामने नजर आ जाते हैं तो बुजुर्ग हो या नौजवान, किसी का भी हाथ श्रद्धा भाव से इनके सामने जुड़ ही जाता है। 

'रामायण' को सिर्फ भारत ही नहीं बल्कि पांच महाद्वीपों में दिखाया गया था। बता दें कि 12 जनवरी 1958 को मेरठ में जन्‍में अरुण गोविल टीवी के काफी चर्चित चेहरा रहे हैं।
स्‍कूल के दिनों में अरुण गोविल थिएटर करते थेष मेरठ से अरुण एक्ट‍िंग करियर बनाने मुंबई आए थे।  यहां बता दें कि अरुण मुंबई आकर अपने भाई के बिजनेस में हाथ बटांते थे। साल 1977 में अरुण ने फिल्‍म 'पहेली' से अपने करियर की शुरुआत की थी। इसके अरुण की मुलाकात रामानंद सागर से हुई। उन्‍होंने अपने धारावाहिक 'विक्रम और बेताल' में इनको राजा विक्रमादित्‍य का लीड रोल प्‍ले करने को दिया। 

इसके बाद रामानंद सागर ने विचार बनाया रामायण को पर्दे पर उतारने का। अब उनको फिर याद आया चेहरा अरुण गोविल का। यहां उन्‍होंने इन्‍हें दिया मौका भगवान राम के किरदार को निभाने का। हां, हालांकि इस किरदार को पर्दे पर जीवंत करने के लिए अरुण को काफी मेहनत भी करनी पड़ी।
 रामायण के अलावा अरुण गोविल ने 'लव कुश', 'कैसे कहूं', 'बसेरा', 'मशाल', 'बुद्ध', 'अपराजिता', 'अंतराल' और 'कारावास' जैसे कई शो में एक्टिंग की है।  राम का रोल प्ले करने के बाद अरुण ने 9-10 साल के लिए खुद को एक्‍टिंग से दूर कर लिया था।
 

Leave A comment

ट्विटर