बादलों को छुती है इन गगनचुंबी स्टैचू की लंबाई, इनकी ऊंचाई का अंदाजा लगाना है काफी मुश्किल

बादलों को छुती है इन गगनचुंबी स्टैचू की लंबाई, इनकी ऊंचाई का अंदाजा लगाना है काफी मुश्किल

.
  • 2017-12-07
  • Tara Chand

.

THEHOOK DESK:दुनिया के किसी कोने पर चले जाइए, आपको कोई ना कोई स्टैचू दिखने को मिल जाएगा। स्टैचू का निर्माण या तो किसी की याद और सम्मान के तौर पर किया जाता है।
 कुछ स्टैचू गंगनचुंबी होते है, जिनकी ऊंचाई का अंदाजा लगाना काफी मुश्किल होता है। आज हम आपको कुछ ऐसे स्टैचू के बारे में बताएंगे, जिनकी ऊंचाई बादलों को छुती है। 

1. गुजरात में लौहपुरुष सरदार वल्लभभाई पटेल को सम्मानित करने के लिए स्टैचू ऑफ यूनिटी का निर्माण किया गया था। इस स्टैचू की लंबाई लगभग 597 फुट है। 
2. बर्मा में दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा स्टैचू है। यह बर्मा के लेक्यू सेटक्यार स्टैचू है, जिसकी ऊंचाई 130 मीटर है। बुद्धा के इस स्टैचू को साल 2008 में तैयार किया गया था। 
3. जापान में बने यूशिको डाइबुस्टो की ऊंचाई 120 मीटर है। इस स्टैचू का निर्माण 1993 में किया गया। यह स्टैचू 10 मीटर लंबे और चौड़े प्लेटफॉर्म पर बना है। 
4. चीन के साउथ कोस्ट में मौजूद 108 मीटर ऊंचा स्टैचू The Guanyin है, जो  सान्या मंदिर के पास बना हुआ है। इसी तरह शासक येन और हुआंग की पत्थरों को तराश कर स्टैचू 2007 में बनकर तैयार हुए थे, जिसकी ऊंचाई करीब 106 मीटर है ।
5. जापान के सेनदाई में स्थित Sendai Daikannon इस वक्त विश्व में छठे नंबर पर है, जिसकी ऊंचाई 100 मीटर हैं।
इस स्टैचू को देखने पर ऐसा लगता है, जैसे वह बादलों को छू रहा है। 

Leave A comment

ट्विटर