इस इंसान पर सबसे खतरनाक सांप के काटने का भी नहीं होता असर, 30 साल तक पी चुका है जहर

इस इंसान पर सबसे खतरनाक सांप के काटने का भी नहीं होता असर, 30 साल तक पी चुका है जहर

...
  • 2017-11-15
  • Shashi Kant

...

THE HOOK DESK दुनिया में एक इंसान ऐसा भी है, जिसपर सबसे जहरीले सांप का जहर भी असर नहीं करता है। इस शख्स ने 30 साल तक रोजाना सांप का जहर पिया। कई बार वो मौत के मुंह से भी लौटा। लेकिन उसने अपनी आदत नहीं छोड़ी।
इस शख्स का नाम स्टीव लुडविन है और यह लंदन में रहता है। स्टीव सांपों के दीवाने हैं। इस शख्स ने सांपों को लेकर ऐसा प्रयोग किया। जिसे सुनकर आपके रोंगटे खड़े हो जाएंगे। लुडविन ने करीब 30 साल पहले हरे रंग के सांप ग्रीन ट्री वाइपर का जहर निकाला और उसे इंजेक्शन से शरीर में भर दिया। वो ऐसा लगातार करने लगा और उसको इसकी आदत सी हो गई। इसके बाद लुडविन ने दुनिया के सबसे जहरीले सांपों में शुमार ब्लैक माम्बा और कोबरा का जहर भी अपने शरीर में इंजेक्ट किया।
उसका दावा है कि उसके शरीर का प्रतिरोधी तंत्र अब बेहद मजबूत हो चुका है और पिछले 15 साल से उसको जुकाम तक नहीं हुआ है। लेकिन बहुत खतरनाक है। कई बार जान जोखिम में भी फंस गई। स्टीव का कहना है कि कई बार हादसे भी हुए। एक बार विष की ओवरडोज की वजह से तीन दिन तक आईसीयू में भर्ती रहना पड़ा। यह बहुत खतरनाक है। स्टीव ने लोगों से ऐसा नहीं करने की अपील की है।
स्टीव ने बताया कि जब वो शरीर में विष डालता है तो उसे बेइंतहा दर्द होता है। शुरू में उसका सिर भी चकराता था। स्टीव पर रिसर्च भी हो रहा है। डेनमार्क की कोपेनहेगन यूनिवर्सिटी रिसर्च कर रही है। 2013 से लुडविन की जांच कर रहे वैज्ञानिक उसकी मदद से सांप के जहर से बचाव की दवा बनाना चाहते हैं।
अगर ये रिसर्च सफल हुआ तो इंसान के शरीर से ही जहर की दवा बनाई जा सकेगी। अभी सांप के काटने पर दवा के लिए विष का ही इस्तेमाल किया जाता है। रिसर्चर्स को उम्मीद है कि ये प्रयोग सफल होगा।
भारत में सांप के काटने से सबसे ज्यादा मौत होती है। हर साल 46 हजार लोग सांप के काटने से मर जाते हैं। जबकि दुनिया में हर साल 81 हजार से डेढ़ लाख लोग सांप के डसने से मरते हैं।

Leave A comment

ट्विटर