जब इजरायल ने दुनिया को दिखाई अपनी ताकत, एक हफ्ते में बन गया दुनिया का सबसे ताकतवर देश

जब इजरायल ने दुनिया को दिखाई अपनी ताकत, एक हफ्ते में बन गया दुनिया का सबसे ताकतवर देश

.
  • 2017-10-13
  • Monika Singh

.

THEHOOK DESK: 1967 में हुआ अरब-इजरायल युद्ध सिर्फ 6 दिन तक चला, हालांकि युद्ध का समझौता हो गया था। लेकिन इसने दुनिया में इजरायल को ताकतवर देश के तौर पर स्थापित किया।
5 जून 1967 की सुबह इजरायल विमानों ने मिस्र के हवाई सैन्य अड्डों पर बम बरसाये। चंद घंटों में मिस्र सभी विमान खत्म हो गए थे। इसलिए इजरायल ने लगभग पहले दिन ही इस लड़ाई को जीत ली थी। लेकिन आज बहुत से इतिहासकार मानते हैं कि लड़ाई की शुरुआत इजरायल वायुसेना की वजह से हुई, जिसके विमान मिस्र के वायुक्षेत्र में घुस गये।
10 बजे सीरिया ने कहा कि उसके विमानों ने इस्राएली ठिकानों पर बम गिराये हैं। जॉर्डन ने भी मार्शल लॉ लगा दिया फिर इराक, कुवैत, सूडान, अल्जीरिया, यमन और फिर सऊदी अरब भी मिस्र के साथ खड़े दिखे।
मिस्र और इस्राएल, दोनों को इस लड़ाई में अपनी जीत का भरोसा था। अरब देशों में गजब का उत्साह था, लेकिन विश्व नेता परेशान थे। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की आपात बैठक में अमेरिकी राष्ट्रपति लिडंन बी जॉनसन ने सभी पक्षों से लड़ाई तुरंत रोकने को कहा।
इस्राएली सैनिकों ने गजा के सरहदी शहर खान यूनिस और वहां मौजूद सभी मिस्री और फलस्तीनी बलों पर कब्जा कर लिया. एक एएफपी रिपोर्ट में खबर दी कि इस तरह इस्राएल ने अपनी पश्चिमी सरहद को सुरक्षित कर लिया। उसकी सेनाएं दक्षिणी हिस्से में मिस्र की सेना के साथ लोहा ले रही थी।
11 जून को युद्धविराम समझौते पर हस्ताक्षर हुए और लड़ाई खत्म हुई. लेकिन इस जीत से इजरायल ने  दुनिया को हैरान कर दिया। इससे जहां इस्राएली लोगों का मनोबल बढ़ा, वहीं अंतरराष्ट्रीय जगत में उनकी प्रतिष्ठा में भी इजाफा हुआ। छह दिन में इस्राएल की ओर से गए सैनिकों की संख्या जहां एक हजार से कम थी वहीं अरब देशों के लगभग 20 हजार सैनिक मारे गए।

Leave A comment

ट्विटर