बादलों के पार पहुंचा देती है ये बिल्डिंग....

बादलों के पार पहुंचा देती है ये बिल्डिंग....

Thehook desk :  आकाश को छूती ऊंची-ऊंची इमारतों की ऊपरी मंजिल में जाकर नीचे जमीन की ओर देखना अपने आप मे बहुत ही रोमांचकारी अनुभव होता है। कई सौ मीटर की ऊंचाई से नीचे देखने में डर भी बहुत लगता है।
  • 2017-06-19
  • niharika

Thehook desk : आकाश को छूती ऊंची-ऊंची इमारतों की ऊपरी मंजिल में जाकर नीचे जमीन की ओर देखना अपने आप मे बहुत ही रोमांचकारी अनुभव होता है। कई सौ मीटर की ऊंचाई से नीचे देखने में डर भी बहुत लगता है।

 इतनी ऊंची इमारतों को देखकर सभी लोग हैरान होते हैं। 
बुर्ज खलीफा-
दुबई मे साल 2010 में बनी बुर्ज खलीफा दुनिया की सबसे ऊंची इमारतों मे से एक है। ये बिल्डिंग विजनरी आइडिया और साइंस का बेहतरीन जोड़ है। सबसे ऊंची फ्रीस्टैंडिंग इमारत, सबसे तेज और लंबी लिफ्ट, सबसे ऊंची मस्जिद, सबसे ऊंचे स्विमिंग पूल और सबसे ऊंचे रेस्टोरेंट का खिताब भी बुर्ज खलीफा के नाम ही दर्ज है। इसकी लंबाई 828 मीटर है। इसमें 163 मंजिलें हैं। इसमें घर ऑफिस शॉपिंग माल होटले के अलावा 30 एकड़ में बनी झील भी है। इस इमारत के निर्माण में लगभग 97 अरब रुपए की लागत आयी। बिल्डिंग का निर्माण 2004 में शुरू हुआ था। 2010 में इसका उद्घाटन किया गया था। दुबई के डाउनटाउन में मौजूद इस बिल्डिंग को 2010 में पब्लिक के लिए खोला गया। इसका नाम यूएई के प्रेसिडेंट खलीफा बिन जाएद अल नाहयान के नाम पर रखा गया। यह इमारत इस्लामिक आर्किटेक्चर का बेहतरीन नमूना है। 
शंघाई टावर- 
साल 2015 में चीन के शंघाई में बनी यह बिल्डिंग 632 मीटर लंबी है। इसमें 128 फ्लोर हैं। शंघाई टावर बनाने में लगभग 2.4 अरब डॉलर की लागत आई है। इस इमारत को बनाने का काम 2008 में शुरू हुआ था। इसकी डिजाइन अमरीकी कंपनी जेंसेलर ने तैयार की है। चीन का शंघाई टावर दुनिया की सबसे ऊंची इमारत दुबई के बुर्ज खलीफा से लगभग 200 मीटर छोटा है। पिछले साल इस इमारत के नजदीक की जमीन पर दरारें दिखने के बाद इसके धंसने की चिंताएं जाहिर की गईं थीं। यह इमारत साइंस का अद्धभुत नमूना है।
रॉयल क्लॉक टावर होटल- 
सऊदी अरब के मक्का में बनी यह गगनचुंभी इमारत रॉयल क्लॉक टावर होटल के नाम से भी जानी जाती है। यह इमारत 601 मीटर ऊंची है। साल 2012 में इसका निमार्ण कार्य पूरा हुआ था। इस बिल्डिंग के ऊपर 120 वें फ्लोर पर एक जर्मन आर्किटेक कंपनी ने क्लॉक टावर बनाया है। जो रात को कई किलोमीटर दूर से भी आसानी से नजर आता है। हरे रंग का यह टॉवर आप को रात मे एक रोमांचकारी अनुभव प्रदान करता है। 
वन वर्ल्ड ट्रेड सेंटर-
अमेरिकी इतिहास में सबसे बड़ा आतंकी हमला झेलने वाले वर्ल्ड ट्रेड सेंटर के स्‍थान पर वन वर्ल्ड ट्रेड सेंटर का ऑब्जरवेशन डेक मीडिया के लिए खोला गया है।  वन वर्ल्ड 104 मंजिला ऊंची इमारत है। आम लोगों के लिए डेक जल्‍द ही खोला जाएगा। इस इमारत से 80 किमी दूर तक का नजारा दिखाई देता है। डेक पर बड़ा मैग्नीफाइंग ग्लास लगा है। इससे नीचे का नजारा ज्यादा बेहतर दिखाई देता है। ग्राउंड फ्लोर से डेक तक हाई स्पीड लिफ्ट से आने में 47 सेकंड लगते हैं। 2014 में न्यूयॉर्क में बना 541 मीटर ऊंचा यह ट्रेड सेंटर अमेरिका की सबसे ऊंची बिल्डिंग है। इसमें 104 फ्लोर हैं। इसके टिकट की कीमत 2030 रुपए है। यहां से न्यूयॉर्क, मैनहटन, स्टैच्यू ऑफ लिबर्टी, ब्रुकलिन ब्रिज, एंपायर स्टेट बिल्डिंग और ग्राउंड जीरो मेमोरियल को आप साफ-साफ देख सकते हैं। 
ताइपे 101
नीले-हरे कांच की दीवारों के साथ 509 मीटर की ऊंचाई वाली ताइपे 101 दुनिया में सबसे बड़ी हरे रंग की बिल्डिंग है। इसे लीडरशिप इन एनर्जी और एनवायरमेंट डिजाइन अवॉर्ड भी मिल चुका है। 508 मीटर ऊंची और 101 फ्लोर वाली इस बिल्डिंग में ज्यादातर ऑफिस हैं। रात को हरे रंग की रौशनी मे घुली इस इमारत की खूबसूरती देखते ही बनती है। कई किलोमीटर दूर से यह इमारत हरे रंग की रौशनी मे नहाती हुई नजर आती है।

Leave A comment

ट्विटर