ये है दुनिया की घातक मिसाइलें, जिनसे थर्राता है दुश्मन कलेजा

ये है दुनिया की घातक मिसाइलें, जिनसे थर्राता है दुश्मन कलेजा

THEHOOK DESK: दुनियाभर में आज हथियारों की होड़ है। किसी देश के पास सैनिकों की संख्या अधिक है, तो कहीं परमाणु हथियारों का जखीरा। कहीं लड़ाकू विमानों की अपनी तकनीक है तो किसी देश के पास अत्याधुनिक लेजर गाइडेड वैंपस हैं।
  • 2017-05-23
  • Tara Chand

THEHOOK DESK: दुनियाभर में आज हथियारों की होड़ है। किसी देश के पास सैनिकों की संख्या अधिक है, तो कहीं परमाणु हथियारों का जखीरा। कहीं लड़ाकू विमानों की अपनी तकनीक है तो किसी देश के पास अत्याधुनिक लेजर गाइडेड वैंपस हैं।

 लेकिन इन सभी फील्ड्स को एक करने के लिए मिसाइलों की जरूरत अहम है। बिना मिसाइल के अपनी सीमा में बैठे हम दुश्मन देश के अंदर सटीकता से मार नहीं कर सकते।
मिसाइल ही हैं, जिनसे उन पर बम और घातक गोले गिराए जाते हैं। इन्हें विमानों, युद्घपोतों में अटैच करके सैकडों किमी दूर तक फेंका जा सकता है। इसलिए विश्व के लगभग सभी ताकतवर देशों में मिसाइलों के स्टॉक मौजूद हैं। कुछ देशों में ऐसी भी मिसाइलें बन चुकी हैं, जिन्हें महज एक बार दागने भर से हजारों हेक्टेयर एरिया पलभर में तबाह हो सकता है।
1. डोंगफेंग-41 : वैसे तो दुनिया चीनी सेना और चीनी हथियारों के बारे में कम ही जानती है, लेकिन डीएफ-4 के बारे में जो थोड़ी बहुत जानकारियां सामने आई हैं, उसके हिसाब से डीएफ-41 दुनिया की सबसे सक्षम मिसाइलों में से एक है। ये परमाणु हथियारों को ढोने में तो सक्षम है ही, साथ ही किसी भी जगह से इसे छोड़ा जा सकता है। इसे सड़क पर खड़े किसी ट्रक लांचर से भी दागा जा सकता है। ये दुनिया में सबसे लंबी दूरी तक मारने वाली मिसाइल है, जिसकी रेंज लगभग 14 हजार किमी है। ये एक साथ कई लक्ष्यों को भी भेदने में सक्षम है।

2. बीजीएम-109 टॉमहॉक: अमेरिका यूं तो लगभग हर तरह की मिसाइलों में अव्वल है, लेकिन सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल टॉमहॉक के बडे़ चर्चे हैं। बीजीएम-109 (टॉमहॉक/TLAM) मध्यम दूरी तक मार करने वाली हल्की लेकिन बेहद फुर्तीली मिसाइल है। जिसकी स्पीड हार्इ सबसोनिक रेंज (550mph (880 किमी / घंटा)) में है। अमेरिका ने सबसे पहले 1991 में इसे खाडी़ युद्घ में इस्तेमाल किया, तब 288 मिसाइलें दागी गर्इं।
3. आर छत्तीस मिसाइल/ (R-36M2 – ICBM): सोवियत संघ (रूस) द्वारा सर्वप्रथम 1974 में तैनात ये मिसाइलें शीतयुद्घ के दौरान नाटो गुट (अमेरिका-यूरोप) पर भारी पड़ गर्इ थीं। यह एक साथ 10 निशानों को भेद सकती है। 8 km/s टॉप स्पीड है इसकी। दस 750kt वारहेड्स को लेकर 11,000 किलोमीटर तक जा सकती है।
4. एलजीएम-30 मिनटमैनः   एलजीएम-30 मिनटमैन अमेरिका की सबसे सक्षम मिसाइलों में से एक है। इसकी मारक क्षमता 13 हजार किलोमीटर है और ये एक साथ 3 परमाणु हथियारों को ले जाने में सक्षम है। जो 3 अलग-अलग लक्ष्यों को भेद सकते हैं।
5. यूजीएम-133 (ट्राइडेंट II): अमेरिकी हथियार निर्माता कंपनी लॉकहीड मार्टिन की ओर से विकसित की गईं ये बैलिस्टिक मिसाइल पानी से भी छोड़ी जा सकती हैं।
6. एआईएम-120/(Aim-9 missile (AMRAAM)) : यह (एडवांस्ड मीडियम रेंज एयर टू एयर मिसाइल) एम्राम है, जिसे अमेरिकी कंपनी रेथियाम ने बनाया है। इसने इराक, बोस्निया और कोसोवो में अपनी उपयोगिता सिद्ध की है।
7. ब्रह्मोस: ये भारत और रूस का संयुक्त उपक्रम है। जिसका नाम भारत की ब्रह्मपुत्र और रूस की मॉस्क्वा नदी के नाम पर रखा गया है। ये मिसाइल महज 290 किमी तक ही मार करने में सक्षम है, लेकिन सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल की श्रेणी में दुनिया की उन गिनी चुनी मिसाइलों में से एक है

Leave A comment

ट्विटर