जर्मनी ने किया दुनिया की पहली प्रदुषण मुक्त ट्रेन का आविष्कार

जर्मनी ने किया दुनिया की पहली प्रदुषण मुक्त ट्रेन का आविष्कार

THE HOOK DESK : आज का युग विज्ञान का युग है और इसमें सब कुछ मुमकिन है। ऑटोमोबाइल के क्षेत्र में जर्मनी हमेशा आगे रहा है और दुनिया के सर्वश्रेष्ठ कार ब्रांड्स जर्मनी ने ही दिए हैं। इस बार जर्मनी ने एक ऐसी ट्रेन पेश की है जो कि पूरी तरह प्रदूषण मुक्त है।
  • 2017-01-12
  • sajan chauhan

THE HOOK DESK : आज का युग विज्ञान का युग है और इसमें सब कुछ मुमकिन है। ऑटोमोबाइल के क्षेत्र में जर्मनी हमेशा आगे रहा है और दुनिया के सर्वश्रेष्ठ कार ब्रांड्स जर्मनी ने ही दिए हैं। इस बार जर्मनी ने एक ऐसी ट्रेन पेश की है जो कि पूरी तरह प्रदूषण मुक्त है।

ऑटोमोबाइल के क्षेत्र में जर्मनी हमेशा आगे रहा है और दुनिया के सर्वश्रेष्ठ कार ब्रांड्स जर्मनी ने ही दुनिया को दिए हैं। इस बार जर्मनी ने एक ऐसी ट्रेन पेश की है जो कि पूरी तरह प्रदूषण मुक्त बताई जा रही है। जर्मनी के एक ट्रेड शो में विश्व की पहली ज़ीरो एमिशन (कार्बन डाई-ऑक्साइड उत्सर्जन मुक्त) ट्रेन पेश की गई है। हाइड्रोजन से चलने वाली 'कोराडिया आईलिंट' नामक इस ट्रेन को फ्रांसीसी कंपनी अल्सटॉम ने बनाया है और दिसंबर 2017 से इसका परिचालन शुरू हो जाएगा। इस ट्रेन की अधिकतम रफ्तार 140 किलोमीटर/ घंटा है।
आईलिंट पहली ट्रेन है जो शून्य कार्बन ड्राई ऑक्साइड का उत्सजर्न करती है। ट्रेन चलने के दौरान इसमें से सिर्फ भाप बाहर आती है। यानी इससे शून्य वायु प्रदूषण होता है। गौरतलब है कई इसे जर्मनी की चार हजार डीजल ट्रेनों का विकल्प बनाने की तैयारी हो रही है। ट्रेन का निर्माण फ्रांस की कंपनी अल्सटॉम ने किया है। इस ट्रेन का परीक्षण सफल रहता है, तो जल्द ही 14 और ट्रेनें चलाई जाएंगी। इस ट्रेन का परीक्षण इस साल के अंत तक किया जाएगा और अगले साल के अंत तक यह यात्रियों के लिए उपलब्ध होगी।
आईलिंट में लिथियम आयन बैटरी लगी है। छत पर हाइड्रोजन ईंधन टैंक लगे है। यह हाइड्रोजन ऑक्सीजन के साथ जलकर ऊर्जा उत्पन्न करता और अतिरिक्त पदार्थ के रूप में इसमें से सिर्फ पानी निकलता है। बता दें कि नीदरलैंड, नार्वे और डेनमार्क भी यह ट्रेन चलाने के लिए रूचि दिखा चुके हैं। इससे पहले बस NASA ने हाइड्रोजन ईंधन से रॉकेट चलाए हैं।

Leave A comment

ट्विटर