अर्जुन ने यहां लिया था चक्रव्यूह का ज्ञान, जमीन पर मिले निशान

अर्जुन ने यहां लिया था चक्रव्यूह का ज्ञान, जमीन पर मिले निशान

THE HOOK DESK: महाभारत के अस्तित्व को लेकर कई तरह की बातें होती हैं। वहीं, भारत में कुछ ऐसी जगह भी हैं जिन्हें देखकर आप सोचने पर मजबूर हो जाएंगे कि महाभारत हुई थी। ऐसी ही एक जगह हिमाचल प्रदेश के हमीरपुर में है।
  • 2017-01-05
  • Ruby Sarta

THE HOOK DESK: महाभारत के अस्तित्व को लेकर कई तरह की बातें होती हैं। वहीं, भारत में कुछ ऐसी जगह भी हैं जिन्हें देखकर आप सोचने पर मजबूर हो जाएंगे कि महाभारत हुई थी। ऐसी ही एक जगह हिमाचल प्रदेश के हमीरपुर में है।

जिसके बारे में कहा जाता है कि अर्जुन ने यहां पर चक्रव्यूह का ज्ञान प्राप्त किया था। हिमाचल प्रदेश के हमीरपुर जिले के सोलह सिंगी धार के नीचे बसा राजनौण गांव एक ऐतिहासिक स्थल के नाम से मशहूर है। 
प्रचलित मान्यताओं के अनुसार, पांडव अज्ञातवास के दौरान यहां रुके थे। उन्होंने यहां पर पानी पीने के लिए एक बाबड़ी का निर्माण किया,जो आज भी मौजूद है। इसके अलावा यहां एक जमीन पर उकेरा हुआ चक्रव्यूह भी मौजूद है।
अज्ञातवास के दौरान अर्जुन ने यहां पर चक्रव्यूह का ज्ञान प्राप्त करने पर उसे पत्थर पर उकेरा,जो आज भी मौजूद है। इस चक्रव्यूह को ध्यान से देखा जाए तो इसमें अंदर जाने का रास्ता तो साफ दिखाई देता है लेकिन बाहर जाने का रास्ते का पता नहीं चलता।
एक खंडहरनुमा महल के पास यह चक्रव्यूह मौजूद है, जिसे पिपलु किले के नाम से जाना जाता है। यह किला एक पहाड़ी पर स्थित है, जहां तक आप ट्रैक करके पहुंच सकते हैं। यहां के स्थानीय लोग बताते हैं कि एक खंडहरनुमा मंदिर की जगह लोगों ने लक्ष्मी नारायण मंदिर का निर्माण किया है। इस मंदिर को आज वनखंडेश्वर महादेव मंदिर के नाम से जाना जाता है।

Leave A comment

ट्विटर